Followers

Sunday, April 17, 2011

साजन तुम हो कहाँ ?


 1-   देखो काली घटा है घिर आया              
               नाव किनारे को है चल पडा                      
                 बादल है गरजा तूफ़ान भी लरजा                    
                              मेरे साजन तुम हो कहाँ ?                    
              

 2-     सन-सन बहे ये पागाल पवन                  
                 बिजली से आलोकित है गगन                          
                      क्या करूँ घर में मैं सजन                                   
                          जिया धडके कभी रुके धड़कन
                              घन बरसे सैलाब है बहे 
                                    मेरे साजन तुम हो कहाँ ?


  3-  तूफ़ान उत्ताल नाव भी डोले
                   ये घरबार तूफ़ान ले उड़े 
                        अब की बार न जाने दूं सजन
                               है मेरा-तुम्हारा अटूट बंधन 


  4-   घनघोर अँधेरा द्वार है खुला
               ऐसे में सजन तुम
                     आखिर हो कहाँ ?






4 comments:

  1. अच्छा लिखा है आपने। भाषा में भी सहज प्रवाह है।
    मैने भी अपने ब्लाग पर एक लेख- कब तक धोखे और अत्याचार का शिकार होंगी महिलाएं- लिखा है। समय हो तो पढ़ें और टिप्पणी दें-
    http://www.ashokvichar.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. तुम्हारा मेरा अटूट बंधन ...
    मगर तुम हो कहाँ !!
    सुन्दर !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर ........

    ReplyDelete
  4. ब्लॉगजगत में पहली बार एक ऐसा "साझा मंच" जो हिन्दुओ को निष्ठापूर्वक अपने धर्म को पालन करने की प्रेरणा देता है. बाबर और लादेन के समर्थक मुसलमानों का बहिष्कार करता है, धर्मनिरपेक्ष {कायर } हिन्दुओ के अन्दर मर चुके हिंदुत्व को आवाज़ देकर जगाना चाहता है. जो भगवान राम का आदर्श मानता है तो श्री कृष्ण का सुदर्शन चक्र भी उठा सकता है.
    इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
    हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
    समय मिले तो इस ब्लॉग को देखकर अपने विचार अवश्य दे

    देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच - हल्ला बोल

    ReplyDelete

comments in hindi

web-stat

'networkedblogs_

Blog Top Sites

www.blogerzoom.com

widgets.amung.us