Followers

Sunday, November 27, 2011

आज हरिवंश राय बच्चन जी का

आज हरिवंश राय बच्चन जी का जन्मदिवस है पेश है उनकी एक बहुचर्चित  कविता


वृक्ष हों भले खड़े,
हों घने हों बड़े,
एक पत्र छांह भी,
मांग मत, मांग मत, मांग मत,
अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ


तू न थकेगा कभी,
तू न रुकेगा कभी,
तू न मुड़ेगा कभी,
कर शपथ, कर शपथ, कर शपथ,
अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ


यह महान दृश्य है,
चल रहा मनुष्य है,
अश्रु श्वेत रक्त से,
लथपथ लथपथ लथपथ,
अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ

Monday, November 21, 2011

जानिये डॉ. ऐ पी जे अब्दुल कलाम के अनमोल सुविचार

जानिये डॉ. ऐ पी जे अब्दुल कलाम के अनमोल सुविचार
एक बेहद गरीब परिवार से होने के बावजूद अपनी मेहनत और समर्पणके बल पर बड़े से बड़े सपनो को साकार करने का एक जीता-जागता प्रमाण हैं अब्दुल कलाम. जानिये ऐ पी जे अब्दुल कलाम के अनमोल विचारः-
►शिखर तक पहुँचने के लिए ताकत चाहिए होती है, चाहे वो माउन्ट एवरेस्ट का शिखर हो या आपके पेशे का.
►क्या हम यह नहींजानते कि आत्म सम्मान आत्म निर्भरता के साथ आता है ?
►इससे पहले कि सपने सच हों आपको सपनेदेखने होंगे
►अपने मिशन में कामयाब होने के लिए , आपको अपने लक्ष्य के प्रति एकचित्त निष्ठावान होना पड़ेगा.
►मुझे बताइए , यहाँ का मीडिया इतना नकारात्मक क्यों है? भारत में हम अपनी अच्छाइयों, अपनी उपलब्धियों को दर्शाने में इतना शर्मिंदा क्यों होते हैं? हम एक माहान राष्ट्र हैं. हमारे पास ढेरों सफलता की गाथाएँ हैं, लेकिन हम उन्हें नहीं स्वीकारते. क्यों?
►किसी भी धर्म में किसी धर्म को बनाएरखने और बढाने के लिए दूसरों को मारना नहीं बताया गया.
►इंसान को कठिनाइयों की आवश्यकता होती है, क्योंकि सफलता का आनंद उठाने कि लिए ये ज़रूरी हैं.
►आकाश की तरफ देखिये. हम अकेले नहींहैं. सारा ब्रह्माण्ड हमारे लिए अनुकूल है और जो सपने देखते हैं और मेहनत करते हैं उन्हें प्रतिफल देने की साजिश करता है.
►भारत में हम बस मौत, बीमारी , आतंकवाद और अपराध के बारे में पढ़ते हैं.
►यदि हम स्वतंत्र नहीं हैं तो कोई भी हमारा आदर नहींकरेगा.
►गर किसी देश कोभ्रष्टाचार – मुक्त और सुन्दर-मन वाले लोगों का देश बनाना हैतो , मेरा दृढ़तापूर्वक मानना है कि समाज के तीन प्रमुख सदस्य ये कर सकते हैं. पिता, माता और गुरु.
►महान सपने देखने वालों के महान सपने हमेशा पूरे होते हैं.
► मैं हमेशा इस बात को स्वीकार करने के लिए तैयार था कि मैं कुछ चीजें नहीं बदल सकता.
►अंग्रेजी आवश्यक है क्योंकि वर्तमान में विज्ञान के मूल काम अंग्रेजी में हैं. मेरा विश्वासहै कि अगले दो दशक में विज्ञान के मूल काम हमारी भाषाओँ में आने शुरू हो जायेंगे, तब हम जापानियों की तरह आगे बढ़ सकेंगे.
►भगवान, हमारे निर्माता ने हमारे मष्तिष्क और व्यक्तित्व में असीमित शक्तियां और क्षमताएं दी हैं. इश्वर की प्रार्थना हमें इन शक्तियों को विकसित करने में मदद करती है.

Saturday, November 19, 2011

जरा कोंग्रेस के बयानों का विरोधाभास देखिये....



हजारों सिखों का कत्लेआम – एक गलती


कश्मीर में हिन्दुओं का नरसंहार – एक राजनैतिक समस्या



गुजरात में कुछ हजार लोगों द्वारा मुसलमानों की हत्या – एक विध्वंस


बंगाल में गरीब प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी – गलतफ़हमी



गुजरात में “परजानिया” पर प्रतिबन्ध – साम्प्रदायिक


“दा विंची कोड” और “जो बोले सो निहाल” पर प्रतिबन्ध – धर्मनिरपेक्षता



कारगिल हमला – भाजपा सरकार की भूल


चीन का 1962 का हमला – नेहरू को एक धोखा



जातिगत आधार पर स्कूल-कालेजों में आरक्षण – सेक्यूलर


अल्पसंख्यक संस्थाओं में भी आरक्षण की भाजपा की मांग – साम्प्रदायिक



सोहराबुद्दीन की फ़र्जी मुठभेड़ – भाजपा का सांप्रदायिक चेहरा


ख्वाजा यूनुस का महाराष्ट्र में फ़र्जी मुठभेड़ – पुलिसिया अत्याचार



गोधरा के बाद के गुजरात दंगे - मोदी का शर्मनाक कांड


मेरठ, मलियाना, मुम्बई, मालेगाँव आदि-आदि-आदि दंगे - एक प्रशासनिक विफ़लता



हिन्दुओं और हिन्दुत्व के बारे बातें करना – सांप्रदायिक

इस्लाम और मुसलमानों के बारे में बातें करना – सेक्यूलर


संसद पर हमला – भाजपा सरकार की कमजोरी


अफ़जल गुरु को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद फ़ाँसी न देना – मानवीयता


भाजपा के इस्लाम के बारे में सवाल – सांप्रदायिकता


कांग्रेस के “राम” के बारे में सवाल – नौकरशाही की गलती



यदि कांग्रेस लोकसभा चुनाव जीती – सोनिया को जनता ने स्वीकारा


मोदी गुजरात में चुनाव जीते – फ़ासिस्टों की जीत



सोनिया मोदी को कहती हैं “मौत का सौदागर” – सेक्यूलरिज्म को बढ़ावा


जब मोदी अफ़जल गुरु के बारे में बोले – मुस्लिम विरोधी

 

Saturday, November 5, 2011

महान गायक भूपेन हजारिका का निधन



महान गायक भूपेन हजारिका का निधन हो गया |हजारिका पिछले काफी  समय से बीमार थे और यहां अस्पताल में भर्ती थे। इश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करे |हजारिका का जन्म 8 सितंबर 1926 को भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम के सादिया में हुआ। हजारिका को 1992 में सिनेमा जगत के सर्वोच्च पुरस्कार दादा साहब फाल्के अवॉर्ड से नवाजा गया। इसके अलावा उन्हें नेशनल अवॉर्ड एज दि बेस्ट रीजनल फिल्म, पद्म भूषण, असोम रत्न और संगीत नाटक अकादमी अवॉर्ड जैसे कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों से नवाजा गया। पेश उनके द्वारा गया हुआ एक भावपूर्ण गीत 

video


Friday, November 4, 2011

विदेशी खाना तो खाते है

हम विदेशी खाना तो खाते है पर वा किस चीज़ से बनता इस पर ध्यान नहीं देते |अधिकतर विदेशी खाने मे चर्बी पाया जाता है | देखिए ना बताया तो यही जा रहा है कि जहां भी किसी पदार्थ पर लिखा दिखे
E100, E110, E120, E 140, E141, E153, E210, E213, E214, E216, E234, E252,E270, E280, E325, E326, E327, E334, E335, E336, E337, E422, E430, E431, E432, E433, E434, E435, E436, E440, E470, E471, E472, E473, E474, E475,E476, E477, E478, E481, E482, E483, E491, E492, E493, E494, E495, E542,E570, E572, E631, E635, E904
समझ लीजिए कि उसमे सूअर की चर्बी है। जिसमे मुख्य हैं टूथपेस्ट, शेविंग क्रीम, च्युंग गम, चॉकलेट, मिठाई, बिस्कुट, कोर्न फ्लैक्स, टॉफी, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ आदि।  तो अब खाने से पहले आवश्या जाँच कर लें |

comments in hindi

web-stat

'networkedblogs_

Blog Top Sites

www.blogerzoom.com

widgets.amung.us